चतुर्भुज | Quadrilateral | Chapter 8 | Class 9

Share:
चतुर्भुज - चार असंरेखीय बिंदुओं को मिलाने पर बनी आकृति चतुर्भुज होती है।
● चतुर्भुज के चारों कोणों का योग 360° होता है।

Chapter 8 Quadrilateral of Class 9

● चतुर्भुज के प्रकार : -

* समलंब - जिस चतुर्भुज की सम्मुख भुजाओं का एक युग्म समांतर हो, उसे समलंब कहते हैं।
* समांतर चतुर्भुज - जिस चतुर्भुज में सम्मुख भुजाओं के दोनों युग्म समांतर हो, उसे समांतर चतुर्भुज कहा जाता है।
* आयत - जिस समांतर चतुर्भुज के चारों कोण 90° के हों तथा लम्बाई-चौड़ाई बराबर नहीं होती है, उसे आयत कहते हैं।
(अपवाद - वर्ग भी एक आयत है जिसकी लम्बाई-चौड़ाई बराबर होती है)
* समचतुर्भुज - जिस समांतर चतुर्भुज की सभी भुजाएँ बराबर हों तथा कोई भी कोण 90° का न हो।
(अपवाद - वर्ग भी एक समचतुर्भुज है जिसके सभी कोण 90° के होते हैं।)
* वर्ग - जिस समांतर चतुर्भुज की चारों भुजाएँ बराबर हों तथा प्रत्येक कोण 90° का हो, उसे वर्ग कहते हैं।
* पतंग - जिस चतुर्भुज की आसन्न भुजाओं के युग्म बराबर हों परन्तु समांतर न हो, उसे पतंग कहते हैं।
● वर्ग, समचतुर्भुज तथा आयत तीनों समांतर चतुर्भुज के ही उदाहरण हैं।
● वर्ग एक आयत होने के साथ-साथ एक समचतुर्भुज भी है।
● समांतर चतुर्भुज एक समलंब भी है परन्तु समलंब एक समांतर चतुर्भुज नहीं होता, क्योंकि इसमें केवल एक युग्म ही समांतर होता है।
● समांतर चतुर्भुज का एक विकर्ण उसे दो सर्वांगसम त्रिभुजों अथवा बराबर क्षेत्रफलों वाले त्रिभुजों में विभाजित कर देता है।
● आयत के विकर्ण एक दूसरे को समद्विभाजित करते हैं और बराबर होते हैं। विलोमशः भी सत्य है।
● समांतर चतुर्भुज की सम्मुख भुजाएँ बराबर होती हैं।
● यदि किसी चतुर्भुज की सम्मुख भुजाओं के दोनों युग्म बराबर हैं, तो वह एक समांतर चतुर्भुज है।
● समांतर चतुर्भुज के सम्मुख कोण बराबर होते हैं।
● यदि किसी चतुर्भुज के सम्मुख कोणों के दोनों युग्म बराबर हों, तो वह एक समांतर चतुर्भुज होता है।
● समांतर चतुर्भुज के विकर्ण एक दूसरे को समद्विभाजित करते हैं।
● यदि किसी चतुर्भुज के विकर्ण परस्पर समद्विभाजित करे, तो वह एक समांतर चतुर्भुज होता है
● समचतुर्भुज के विकर्ण परस्पर लंब होते हैं।
● समांतर चतुर्भुज के कोणों के समद्विभाजक से आयत बनता हैं।
● जिस चतुर्भुज की सम्मुख भुजाओं का एक युग्म समांतर होने के साथ-साथ बराबर भी हो, वह एक समांतर चतुर्भुज होता है।
● एक त्रिभुज की दो भुजाओं के मध्य-बिंदुओं को मिलाने वाला रेखाखंड त्रिभुज की तीसरी भुजा के समांतर होता है और उसका आधा होता है।
● त्रिभुज की एक भुजा के मध्य-बिंदु से दूसरी भुजा के समांतर खींची गई रेखा त्रिभुज की तीसरी भुजा को समद्विभाजित करती है।
● किसी चतुर्भुज के मध्य-बिंदुओं को मिलाने मिलाने पर एक समांतर चतुर्भुज बनता है।



All Chapters Notes in Hindi Maths Class 9th


अध्याय 1 संख्या पद्धति
अध्याय 2 बहुपद
अध्याय 3 निर्देशांक ज्यामिति
अध्याय 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण
अध्याय 5 यूक्लिड की ज्यामिति का परिचय
अध्याय 6 रेखाएँ और कोण
अध्याय 7 त्रिभुज
अध्याय 8 चतुर्भुज
अध्याय 9 समांतर चतुर्भुजों और त्रिभुजों के क्षेत्रफल
अध्याय 10 वृत्त
अध्याय 11 रचनाएँ
अध्याय 12 हीरोन का सूत्र
अध्याय 13 पृष्ठीय क्षेत्रफल और आयतन
अध्याय 14 सांख्यिकी
अध्याय 15 प्रायिकता

कोई टिप्पणी नहीं

Thanks for your comments !